Menu
A+ A A-

अकाल के दौरान पैदा हुए शिशुओं को मध्य जीवन में कम उपलब्धि होती है

english chinese

झोंगशान पुल में लान्चो के अकाल पीड़ित छवि सौजन्य: विकीमीडिया कॉमन्स

एन आर्बर —एक नए अध्ययन के अनुसार शिशुओं में भूख और कुपोषण मध्य जीवन में कम संज्ञानात्मक प्रदर्शन दिखाता है।

मिशिगन यूनिवर्सिटी, मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी और कोलंबिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने पाया है कि चीन के 1 9 5 9 -61 में अकाल से बचने वाले लाखों बच्चें ने अपने अतीत के शिकार थे, क्योंकि उनका संज्ञानात्मक प्रदर्शन 50 के दशक में कम होने लगा।

अंतर्राष्ट्रीय जर्नल ऑफ़ एपिडेमियोलॉजी में प्रकाशित, यह अध्ययन पहला हैं जो एक गैर पश्चिमी संदर्भ में प्रारंभिक जीवन में अकाल के दीर्घकालिक संज्ञानात्मक परिणामों की जांच करता है।

"बहुत से लोग मानते हैं कि एक की संज्ञानात्मक की क्षमता बढ़ती उम्र से कम हो जाएगी। लेकिन चीन में 1 9 5 9 से 1 9 61 के बीच गर्भ में और पैदा होने वाले लोगों के लिए, गिरावट की दर सामान्य से अधिक तीव्र है," अध्ययन के प्रमुख लेखक होंगवेई जू ने कहा जो यू-एम के सामाजिक अनुसंधान संस्थान के अनुसंधान सहायक प्रोफेसर है।

2011 में चीन के राष्ट्रीय स्तर के प्रतिनिधि अनुदैर्ध्य सर्वेक्षण से आंकड़ों से जू और उनके सहयोगियों ने 2,446 ग्रामीण चीनी पर, जिनका जन्म 1 9 58 और 1 9 63 के बीच हुआ था, ध्यान, समय अभिविन्यास और एपिसोडिक स्मृति सहित संज्ञानात्मक कार्यों में मान्य मूल्यांकन का उपयोग किया।

अध्ययन ने पाया कि 1 9 5 9 में पैदा हुए समूह, जो गर्भ और जीवन के पहले दो वर्षों में कुपोषण के शिकार थे , 1 9 63 में जन्मे सन्दर्भ समूह की तुलना में अध्ययन में अधिक स्कोर किया।

अध्ययन के अनुसार अकाल के अंतिम वर्ष - 1 9 61 - में पैदा हुए बच्चो में अकाल के बाद पैदा होने वाले बच्चो की तुलना में संज्ञानात्मक स्कोर काफी कम था। 1 9 62 में पैदा हुए लोगों में कोई महत्वपूर्ण नकारात्मक अकाल प्रभाव पाए नहीं गए थे।

शिक्षा के पहलू के लिए नियंत्रण के बाद, शोधकर्ताओं ने पाया कि अभी भी चीन के तीन वर्षों की अकाल अवधि में पैदा हुए बच्चो पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

"चीन की आबादी की उम्र तेजी से बढ़ रही है," उन्होंने कहा। "लेकिन सरकार और जनता दोनों ने मध्यम आयु वर्ग के वयस्कों और वरिष्ठ नागरिकों पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया है। लोगो मे सामान्य रूप से बुढ़ापे में संज्ञानात्मक में गिरावट आती हैं। लेकिन हमारे अध्ययन से पता चला है कि ये समूह गर्भाशय और बचपन में भूख या कुपोषण के कारण अधिक कमजोर हैं। "

इस अध्ययन के अतिरिक्त लेखकों में मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के झेंमेई झांग, यू-एम की लिडा ली और कोलंबिया के जिनीयू लियू शामिल हैं। इस अध्ययन को यूनुस कैनेडी श्राइवर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ चाइल्ड हेल्थ एंड ह्यूमन डेवलपमेंट और यू-एम के लिबेर्थल-रोगेल सेंटर फॉर चाइनीज स्ट्डीज़ द्वारा सपॉर्ट किया गया है।

अधिक जानकारी:

अध्ययन: चीन में 1 9 5 9 -61 के अकाल के दौरान प्रारंभिक जीवन अौर संज्ञानात्मक प्रदर्शन